अगोदर शहाजहांपूरचे पत्रकार गजेद्रंसिह यांना अंगावर रोॅकेल अोतून जाळण्यात आलं,नंतर कानपूरचे पत्रकार कानपूरचे पत्रकार दीपक मिश्रा यांना गोळ्या घालण्यात आल्या आता लखनौच्या अमर उजालाचे ब्युरी चीफ धीरज पांडे यांच्यावर जीवघेणा हल्ला केला गेला आहे.त्यांची प्रकृत्ती चिंताजनक असून त्यांच्यावर उपचार सुरू आहेत.

बस्ती (उत्तर प्रदेश) : एक और पत्रकार को समाजवादी पार्टी के विधायक ने मौत के घाट उतारने की कोशिश की। पत्रकार की हालत गंभीर है। लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भरती कराया गया है। वह पांच जून की रात से लगातार कोमा में हैं। बताया गया है कि अमर उजाला प्रबंधन, प्रशासन और पुलिस सब इस मामले को दबाने में लगे हुए हैं।

बस्ती अमर उजाला ब्यूरो के जिला प्रभारी धीरज पांडेय जब पांच जून की रात एक बजे एक शादी समारोह से अपने घर लौट रहे थे, पहले से घात लगाए बांसी के पूर्व विधायक लालजी यादव के गुर्गों ने सफारी गाड़ी से उनकी बाइक में पीछे से तेज धक्का मार कर गिरा दिया। उन्हें मरा हुआ समझ कर हमलावर तेजी से भाग निकले। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने हमलावरों की गाड़ी अपने कब्जे में ले ली।

गंभीर घायल धीरज पांडेय को तुरंत स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनके दोनो पैर टूट गए हैं। सिर में गंभीर चोट के कारण वह कोमा में चले गए। वहां के डॉक्टरों ने अगले दिन पांडेय को लखनऊ रैफर कर दिया। उन्हें यहां के ट्रामा सेंटर में भरती कराया गया है। उनकी हालत पिछले आठ दिनों से गंभीर बनी हुई है।

बताया गया है कि हादसे का रूप देकर धीरज पांडेय को खत्म कर देने की योजना थी। समाजवादी पार्टी का पूर्व विधायक होने के नाते स्थानीय प्रशासन और पुलिस ने अपने हाथ समेट रखे हैं। सिर्फ थाने में नेता की गाड़ी खड़ी कराई गई है। बताते हैं कि अभी तक घटना की रिपोर्ट भी दर्ज नहीं हुई है। इस सुनियोजित कांड से जिले के पत्रकारों में भारी रोष है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here